अगर आप भी बनाना चाहते है अपने किचन को इको फ्रेंडली, तो अपनाये ये तरीके

जानें कैसे बनाये अपने किचन को इको फ्रेंडली


आपने देखा होगा कि पिछले कुछ सालों में हमारी ज़िन्दगी में प्लास्टिक का इस्तेमाल बहुत ज्यादा बढ़ गया है. प्लास्टिक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल हमारे किचन में ही होता है. प्लास्टिक हमारी रेगुलर यूज़ की जाने वाली चीज में से एक है. फ्रिज में रखी जाने वाली प्लास्टिक की बोतल हो या फिर बचे हुए खाने को प्लास्टिक रैप में टाइप करके फ्रिज में रखना, प्लास्टिक के गिलास, टिफिन बॉक्सेस आदि ये सभी चीजे हमारे किचन में रेगुलर यूज़ होनी वाली चीजों में से है. लेकिन ये सारी चीजे सिंगल यूज प्लास्टिक की नहीं होती. इन चीजों को आप लम्बे समय तक इस्तेमाल कर सकते है. सिंगल यूज प्लास्टिक हमारे स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए कितना नुकसानदेह है ये बात हम सब लोग जानते है. तो चलिए आज हम आपको आपके किचन से सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल घटाकर और उसे एक इको फ्रेंडली किचन बनाने के लिए कुछ चीजे बतायेगे.

स्ट्रॉ: अपने देखा होगा कि आज के समय में बच्चे बड़े सभी लोग स्ट्रॉ का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करने लगे है. प्लास्टिक की स्ट्रॉ पर्यावरण के लिए बहुत नुकसानदायक होती है. इस प्लास्टिक की स्ट्रॉ को एक बार इस्तेमाल कर फेक दिया जाता है. जिसके कारण कूड़ा और प्रदूषण बढ़ता है. इसलिए आपको अपने किचन में प्लास्टिक की स्ट्रॉ की जगह शीशे या मेटल के स्ट्रॉ का इस्तेमाल करना चाहिए.

थर्माकोल प्लेट्स: आज के समय में थर्माकोल की प्लेट का चलन बहुत ज्यादा बढ़ गया है. आज के समय में लोग बर्तन धोने के डर से मेहमानों को अक्सर सिंगल यूज़ बर्तनों और प्लेट में खाना सर्व कर देते है. लेकिन आपको बता दें कि इससे कई तरह की बीमारियां फैलती है. इसलिए आपको इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

और पढ़ें: दिवाली की सफाई के दौरान रखें अपनी त्वचा का भी ध्यान, फॉलो करें ये टिप्स

प्लास्टिक के डिब्बे: पहले की समय पर लोग ग्रोसरी को रखने के लिए स्टील या कांच के डिब्बे इस्तेमाल करते थे. लेकिन आज के समय पर लोग प्लास्टिक के डिब्बों का ज्यादा इस्तेमाल करना पसंद करते है. जो की हमारे पर्यावरण के लिए काफी ज्यादा नुकसानदेह है. इसलिए आपको अपने किचन को इको फ्रेंडली बनाने के लिए शीशे या स्टील के डिब्बे इस्तेमाल करने चाहिए.

पॉलिथीन बैग: आपने देखा होगा कि लोग अपने घर से सामान और सब्जियां खरीदने के लिए खाली हाथ निकल पड़ते है. वो दुकानदार से ही पॉलिथीन लेकर सामान लाते है. इससे अच्छा ये होता कि वो अपने घर से कपड़े का एक बड़ा बैग लेकर शॉपिंग करने जाएं.

रीयूजेबल कटलरी: यूज एंड थ्रो के इस दौर में लोगों को चम्मच कांटे और छुरी भी प्लास्टिक की ही पसंद आती है, क्योकि प्लास्टिक की ये चीजे देखने में बेहद प्यारी लगती है. इसलिए लोग ज्यादा पर प्लास्टिक की ही चीजों का इस्तेमाल करते है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments