कोलकाता का ये पंडाल सजा है नारी सशक्तिकरण थीम पर, माँ का लुक है बेहद ख़ास

0
35

त्रिधारा सार्वजनीन दुर्गापूजा कमेटी ने इस साल बनाया है नारी  सशक्तिकरण को पंडाल का थीम


भारत में आदिकाल से ही नारी की पूजा होती आरही है। हमारे देश में हमेशा से ही नारी को देवी का प्रतीक माना जाता है। मान्यता तो ये भी है की जहां नारी की पूजा होती है वही पर देव-देवताओ का वास होता है और जहां नारी की पूजा नहीं की जाती है वहा हर शुभ काम भी व्यर्थ होता है। इसी बात से प्रेरित होकर उत्तर कोलकाता के प्रमुख दुर्गापूजा आयोजन शुमार नार्थ त्रिधारा सार्वजनीन दुर्गापूजा कमेटी ने इस बार नारी शक्तिकारण को अपना थीम बनाया है। एक नारी कैसे कठिन परिस्थियों में लड़ती है और आगे बढ़ती है।

दरअसल,  इन लोगो ने पहले ही सोच लिया था की इस बार पंडाल का थीम वीमेन एम्पावरमेंट रखेगे। इस दौरान प्रतिमा पोद्दार के जीवन को अपना थीम बनाया। प्रतिमा महानगर की पहेली महिला है जो बस चलाकर अपन परिवार का पालन-पोषण करती है। शक्ति की देवी दुर्गा की ही तरह की प्रतिमा का जीवन है जिन्होंने इस पुरुष प्रधान समाज में अलग पहचान बनाई है। प्रतिमा  का जीवन दर्शाता है की नारी शक्ति असंभव कार्य को भी संभव कर सकती है और इनके जीवन से अच्छा कोई नारी शक्तिकारण को नहीं दर्शा सकता है। इस पंडाल में माँ दुर्गा को ‘प्रमिता’ को चेहरा दिया गया है।

अब जब थीम ही प्रतिमा का  जीवन है तो इस पंडाल में प्रतिमा के जीवन की कहानी भी दिखाई जाएगी। पंडाल को सजाया भी मिनी बस की ही तरह है और इंटीरियर भी बस की ही तरह. पंडाल के एंट्री पर प्रतिमा प्रधान की एक सिलिकॉन से बानी मूर्ति भी लगाई गई है. पूजा के बाद इस मूर्ति को मदर वैक्स म्यूजियम  में रखा जायेगा।

Read more: जानिए!! माँ दुर्गा का चंद्रघंटा रूप सबसे लोकप्रिय क्यों है?

 महिलाओ को मिलेगी इससे प्रेरणा :

प्रतिमा के इस थीम से प्रतिमा की तरह और भी महिओ को बल मिलेगा जिस वो इस पुरुष प्रधान समाज के बंधनो को तोड़कर आगे बड़ेगे। आपको बता दे की प्रतिमा बेलघरिया-हावड़ा रूट की बस चलाती हैं।

‘पूजोर छंदे, मातो आनंदे’ का हुआ शुभारंभ:

दुर्गा पूजा को लेकर पूरे बंगाल में उत्साह का माहौल  रहता है । इस बीच शुक्रवार को डॉलर इंडस्ट्रीज लिमिटेड की ओर से बीते सालों की तरह इस साल भी सालाना आयोजन पुजोर छंदे, मातो आनंदे के 10वें संस्करण का शुभारंभ किया गया। ‘पुजोर छंदे, मातो आनंदे’ के तहत हर साल डॉलर की ओर से कोलकाता के विभिन्न पूजा आयोजकों को विभिन्न श्रेणी में पुरस्कृत किया जायेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com