सेहत

जानें ज्यादा दूध पीना आपके शरीर को कितना नुकसान पहुंच सकता है

डेयरी वाले दूध में ए1 कैसिइन मौजूद होती है. जो आंतो में सूजन पैदा करने के साथ-साथ बैक्टीरिया को भी  बढ़ता है.


बचपन में आपने अक्सर सुना होगा कि हर बच्चे को यह कहा जाता है कि दूध पीओ और बॉडी बनाओ. अगर दूध नहीं पीओगे तो आप बॉडी बिल्डर नहीं बन पाएंगे. दूध एक संपूर्ण आहार है. जिसे हर किसी को लेना चाहिए. चाहे कोई बड़ा हो या छोटा. डॉक्टर भी हमें दूध पीने की सलाह देते हैं. जब कभी भी लोग बीमार पड़ते हैं उन्हें दूध ही दिया जाता है. ऐसा भी माना जाता है हल्दी वाला दूध तो देशी इलाज है. जिससे आसानी से दर्द  से राहत पाई जा सकती है. लेकिन क्या आपको पता है ज्यादा दूध हमारी सेहत के लिए नुकसानदेह है. ज्यादा दूध का सेवन शरीर को नुकसान पहुंचाता है. तो चलिए आज आपको कुछ ऐसा ही नुकसान के बारे में बताते हैं.

1.  कुछ भी ज्यादा खाना सेहत के लिए हानिकारक होता है. दूध भी ऐसा ही है. जरुरत से ज्यादा दूध पी लेने के बाद आपको बैचेनी, थकान, सुस्ती हो सकती है. अगर आप शुद्ध दूध पी रहे हैं तो यह फिर भी ठीक हैं. लेकिन आप डेयरी वाला दूध पी रहे हैं तो आपको बाकी चीजें का ख्याल रखना होगा. डेयरी वाले दूध में ए1 कैसिइन मौजूद होती है. जो आंतो में सूजन पैदा करने के साथ-साथ बैक्टीरिया को भी बढ़ता है.

और पढ़ें: देसी डिटॉक्स ड्रिंक का बेस्ट ऑप्शन है हल्दी की चाय, जाने इसके फायदे

2.  दूध में अक्सर मलाई आती है. जो कि हार्ट और बीपी वाले पेसेंट के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक है. इसलिए अगर आपको यह दोनों परेशानियां है तो आप दूध का सेवन कम करें इसकी जगह पर अन्य खाद्य पदार्थों का उपयोग कर सकते हैं.

3. डेयरी वाला दूध और खटाल से लगाए गए दूध में थोड़ा बहुत अंतर तो ही है. लेकिन अत्यधिक सेवन दोनों का ही आपको नुकसाना पहुंचा सकता है. इससे आपको एलर्जी हो सकती है. स्किन में दाने निकल सकते हैं.

4. ज्यादा दूध पाचन संबंधी परेशानियों को भी जन्म देता है. ज्यादा दूध पी लेने से पेट फूल जाता है. गैस संबंधी बीमारियां होने लगती है. जिसके कारण आपको कई तरह की परेशानियां का सामना करना पड़ता है. गैस के कारण कभी सिर दर्द या कमर में दर्द होने लगता है. इसके अलावा उल्टी भी होने लगती है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button