Detention center in India – ‘डिटेंशन सेंटर’ का मुद्दा, क्या बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

0
29
detention center in india

Detention center in India – क्या भारत के पास वाकई ‘डिटेंशन सेंटर्स’ मौजूद हैं?


Detention center in India: देश में नागरिकता कानून 2019 (Citizenship Act 2019 – CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC – National Register for Citizens) के चलते एक और मुद्दा सामने आया है और वो है – ‘डिटेंशन सेंटर’ (Detention Centre) का मुद्दा। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में हुई अपनी रैली में डिटेंशन सेंटर पर बयान देकर देशभर में इसकी चर्चा शुरू कर दी है जिसके चलते इसे लेकर लोगों के मन में कई सवाल हैं।

डिटेंशन सेंटर

नागरिकता संशोधन कानून और इसके बाद लागू होने वाले राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी NRC के जरिए
नागरिकता साबित न कर पाने वाले मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर भेज दिया जाएगा। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र
मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित रैली में इस बात का खंडन करते हुए दावा किया हिंदुस्तान में कोई
डिटेंशन सेंटर है ही नहीं और उनके इस दावे पर अब सवाल उठ रहे हैं। संसद में सरकार ने देश में न सिर्फ डिटेंशन
सेंटर होने की बल्कि उनमें हजारों लोगों को कैद होने की बात भी कही है। असम सरकार द्वारा दी गई जानकारी के
मुताबिक, 22 नवंबर तक राज्य के 6 डिटेंशन सेंटर में 22,988 लोग हैं।

और पढ़ें: कम सोना और ज्यादा सोना – क्या दोनों नुकसानदायक होते है?

पीएम मोदी ने क्या कहा अपने बयान में –

पीएम मोदी ने अपने भाषण में ये भी कहा है कि, ‘CAA भारत के किसी हिंदू या मुसलमान के लिए है ही नहीं।
शहरों में रहने वाले कुछ पढ़े-लिखे नक्सली, अर्बन नक्सल, ये अफवाह फैला रहे हैं कि सारे मुसलमानों को डिटेंशन
सेंटर में भेज दिया जाएगा।’ पीएम मोदी ने मुसलमानों को आश्वासन देते हुए कहा कि, ‘हिंदुस्तान की मिट्टी के
मुसलमान हैं, जिनके पुरखे मां भारती की संतान हैं, उन पर नागरिकता कानून और NRC दोनों का कोई लेना-देना
नहीं है। देश के मुसलमानों को ना डिटेंशन सेंटर में भेजा जा रहा है, ना हिंदुस्तान में कोई डिटेंशन सेंटर है। भाइयो
बहनो ये सफेद झूठ है, ये बद-इरादे वाला खेल है, ये नापाक खेल है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com