कोरोना ड्यूटी पर तैनात दिल्ली के तीन अध्यापक कोरोना संक्रमित, सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

0
43
coronavirus update india
Image Source - Pixabay

मांग: अन्य अध्यापकों को भी किया जाए क्वारंटीन, नहीं हो रहा नियमों का पालन


‘प्रशासन सुरक्षा के कोई उपाय नहीं कर रहा, हमारे साथ दिल्ली सरकार सौतेला व्यवहार कर रही है’
एसडीएम और एडीएम को अवगत कराया गया, नहीं मिला भरोसा, मनीष सिसोदिया को ट्विटर पर टैग किया गया है
‘तेज बुखार हो तो अपना कोरोना टेस्ट करवाएँ’
डॉक्टर्स, नर्स और पुलिसकर्मी के अलावा शिक्षकों ने भी इस महामारी में कोविड वारियर की तरह ही काम किया है। लेकिन उनका आरोप है कि दिल्ली सरकार उनकी कोई सुध नहीं ले रही और उनके हितों की लगातार अनदेखी की जा रही है।
पिछले एक महीने से दिल्ली के उत्तर-पश्चिमी जिले में डीपीएस रोहणी, सेक्टर- 24 में प्रतिनियुक्त लगभग तीन सौ अध्यापकों की ड्यूटी कोरोना लॉकडाउन में लगी है। उनकी तैनाती प्रवासी मज़दूरों की मेडिकल स्क्रीनिंग और उन्हें बस में बिठा कर दिल्ली के विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर भेजने के लिए की गई है। इन स्क्रीनिंग केंद्रों पर रोज़ाना लगभग हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर आते हैं जिन्हें तमाम प्रक्रिया के बाद उनके गंतव्य की ओर रवाना किया जाता है। अध्यापकों ने सम्मिलित रूप से एक बयान जारी करते हुए दिल्ली सरकार पर आरोप लगाए कि अव्यवस्था कि स्थिति यह है कि अब तक तीन अध्यापक कोरोना से संक्रमित हो चुके है फिर भी प्रशासन सुरक्षा के कोई उपाय नहीं कर रहा।
उन्होंने बताया, “एसडीएम और एडीएम को अध्यापकों की इस पीड़ा से अवगत कराया गया है। लेकिन कई बार सूचित करने के बावजूद भी वे कहते हैं कि जिन्हें तेज बुखार हो वो अपना कोरोना टेस्ट करवाएँ, जबकि देश में 80% संक्रमित में वायरस के कोई लक्षण नहीं पाए जाते। बताया जा रहा है कि अध्यापक अभय, जगदीश और एक अन्य कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं।
और पढ़ें: लॉकडाउन 4.0 के दौरान क्यों बिगड़ी दिल्ली की हवा, एक्यूआई 200 के पार
अध्यापकों के बताया, “उत्तर पश्चिमी दिल्ली के एडीएम अमित कुमार का रवैया बेहद ही असंवेदनशील है। हमारी शिकायत पर वो निलंबन व निष्कासन की धमकी देते हैं व साथ ही हमारी स्वास्थ्य समस्याओं का उपहास करते हैं। शीर्ष अधिकारियों व प्रशासन के इस रवैये से हम आहत हैं। हम चाहते हैं कि हमारे हितों की रक्षा हो ताकि हम और हमारा परिवार सुरक्षित रहें।”
गौरतलब है कि स्वास्थ्य सुरक्षा के इस गंभीर मुद्दे पर कोरोना ड्यूटी में प्रतिनियुक्त अध्यापकों में प्रशासन के प्रति काफी रोष है। अध्यापकों ने आरोप लगाते हुए कहा, “हमारे साथ दिल्ली सरकार सौतेला व्यवहार कर रही है। रेलवे और सचिवालय में किसी एक स्टाफ़ के संक्रमित होने पर वहाँ कार्यरत सभी अन्य कर्मियों को क्वारंटीन कर दिया जाता है, लेकिन हमारी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यहाँ तक कि बार-बार गुहार लगाने पर भी हमें नज़रअंदाज़ किया जाब्रह है।”
इस बाबत दिल्ली के शिक्षा मंत्री व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भी ट्विटर पर टैग करके जानकारी दी गई है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की हुई है।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com