दांडी मार्च को पूरे हुए 89 साल

0
176
dandi march

जब महात्मा गाँधी ने ब्रिटिशर्स के खिलाफ शुरू किया था दांडी मार्च, जाने क्या थी वजह ?


दांडी मार्च आज किताबो में इतिहास बनकर शामिल है. जिसकी शुरुआत  बापू  यानी की महात्मा  गाँधी ने की थी. दांडी  मार्च को बापू  ने 12  मार्च 1930 को शुरू किया था . जिसको ‘नमक सत्याग्रह के नाम से भी जाना जाता है जो  कि 24 दिनों  तक चली थीं जिसे आज ऐतहासिक यात्रा के तौर पर जाना जाता है.

दांडी मार्च को पूरे हुए 89 साल

यहाँ जाने की दांडी  मार्च था क्या और उसे जुड़ी कुछ ख़ास बातें ?

दांडी मार्च  को  बापू ने अहमदाबाद में साबरमती आश्रम से शुरू किया था  . जो  कि 5 अप्रैल  को खत्म हुई थी. यह मार्च 24  दिनों तक चली थी जिसमे बापू  के साथ हजारो की संख्यों  में लोग एक जुट हुए  थे. साथ ही यह यात्रा समुद्र के किनारे बसे शहर दांडी के लिए थी.जहां जा कर बापू ने औपनिवेशिक भारत में नमक बनाने के लिए अंग्रेजों के एकछत्र अधिकार वाला कानून तोड़ा था और नमक बनाया था.

आपको बता दे कि  दांडी  मार्च के दौरान 8,000 भारतीयों को ब्रिटिशर्स ने जेल में डाल दिया था. फिर भी उस समय  लोगो ने हार  नहीं मानी और नमक आंदोलन के लिए लड़ते रहे और एक साल बाद महात्मा गांधी की रिहाई के साथ यह लड़ाई खत्म हुईं.

यहाँ  भी पढ़े : सोशल मीडिया पर लागू की गई आचार संहिता : जाने क्या है वजह ?

तभी आज बापू  के बाकी सभी आंदोलन में से यह आंदोलन काफी ऐतिहासिक माना जाता है .+आज इस  दांडी  मार्च  के 89  साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने भी बापू  के इस आंदोलन को याद करते हुए यह ट्वीट किया कि ,”जब एक मुट्ठी नमक ने अंग्रेजी साम्राज्य को हिला दिया था”

वहीं  इस दौरान ने पीएम मोदी ने भी कांग्रेस पर भी निशाना साधा और कहा कि गांधी जी ने हमेशा अपने कार्यों के माध्यम से ये संदेश दिया कि असमानता और जाति विभाजन उन्हें किसी भी स्थिति में स्वीकार्य नहीं है। दुख की बात है कि कांग्रेस ने समाज को विभाजित करने में कभी संकोच नहीं किया . सबसे भयानक जातिगत दंगे और दलितों के नरसंहार की घटनाएं कांग्रेस के शासन में ही हुई हैं.’

ख़ैर इल्जाम तो एक दूसरे पर लगते  ही रहेंगे लेकिन जब से  चुनाव के तारीखों की घोषणा हो गई  है तो सभी पार्टियाँ  अपने चुनाव प्रचार  में जुट  गई  और उसे जल्द खत्म  करने में लगी है .

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in