मनोरंजनमूवी-मस्ती

पद्मावती- फिल्म से विवादित सीन हटाने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में लगाई याचिका

जावेद अख्तर ने राजपूतो को लेकर दिया विवादित बयान


पद्मावती फिल्म को लेकर बवाल थमने का नाम नही ले रहा है। फिल्म पद्मावती को लेकर दाखिल याचिका पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। वकील एमएल शर्मा ने याचिका दाखिल कर इस फिल्म से विवादित दृश्य हटाने के आदेश देने की मांग की है। साथ ही फिल्म निर्माता निर्देशक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सीबीआई जांच की मांग की है।

फिल्म पद्मावती
फिल्म पद्मावती

रिलीज डेट आगे बढ़ाने कीं मांग

फिल्म को लेकर याचिका में कहा गया है कि जानबूझकर एक महिला की मानहानि की जा रही है। इससे पहले पद्मावती फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, लेकिन अब मेकर्स की ओर से फिल्म की रिलीज डेट को आगे बढ़ दिया गया है, लेकिन यह किस तारीख पर सिनेमाघरों में उतरेंगी, यह फिलहाल तय नहीं हैं।

वहीं दूसरी ओर राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुधरा राजे ने केद्र सरकार को चिट्ठी लिखी है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिखकर आग्रह किया है कि पद्मावती फिल्म तब तक रिलीज न हो, जब तक इसमें जरुरी बदलाव नहीं कर दिए जाएं ताकि किसी भी समुदाय की भावनाओं को ठेस न पहुंचे।

राजपूत अंग्रेजो से लड़े नहीं अब सड़क पर उतर रहे हैं

पद्मावती को लेकर गीतकार जावेद अख्तर ने करणी सेना और पूर्व राजघरानों को लेकर विवादित बयान दिया। रविवार को लखनऊ मैं एक न्यूज चैनल से बातचीत मे जावेद ने कहा कि राजपूतृ-रजवाड़े अंग्रेजों से तो कभी लड़े नहीं और अब सड़को पर उतर रहे हैं। ये जो राणा लोग हैं, महाराजे हैं, राजे हैं राजस्थान के 200 साल तक अंग्रेज मे दरबार मे खड़े रहे।

पगड़ियां बांधकर, तब उनकी राजपूती कहां थी। ये तो राजा ही इसीलिए हैं क्योंकि इन्होंने अंग्रेजों की गुलामी स्वीकार की थी। बता दें कि बांधकर, तब उनकी राजपूती कहां थी। ये तो राजा ही इसीलिए हैं, क्योंकि इन्होंने अंग्रेजों की गुलामी स्वीकार की थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।