हॉट टॉपिक्स

Chhath Puja 2021: जाने कैसे मिलता है छठी मैया का आशीर्वाद, यहां जाने उनसे जुड़े 4 महत्वपूर्ण बातें

Chhath Puja 2021: 4 सवाल जो अक्सर छठ पूजा को लेकर लोगों के मन में होते है


Chhath Puja 2021: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार छठ पूजा का त्योहार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्टी तिथि यानि की दिवाली के छः दिन बाद मनाया जाता है। इस साल छठ पूजा 8 नवंबर से 11 नवंबर तक मनाई जाएगी। आपको बता दें कि छठी मईया और सूर्य देव की उपायना का ये त्योहार लोकपर्व मुख्य तौर पर बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखण्ड, पश्चिम बंगाल और नेपाल के कई क्षेत्रों में मनाया जाता है। मान्यताओं के अनुसार हमारे देश में रखें जाने वाले व्रतों में से एक कठिन व्रत छठ पूजा का होता है। बिहार के लोगों के अनुसार भी यह एकमात्र ऐसा त्योहार है जो उनकी संस्कृति से जुड़ा हुआ है। ये बात तो हम सभी लोग जानते है कि छठ पूजा का त्योहार पवित्रता, सादगी और आस्था के साथ मनाया जाता है। इसलिए आप भी इस त्योहार से जुडी बातों को जरूर जाना चाहते होंगे। तो चलिए आज हम आपको छठ पूजा के अवसर पर छठ के उन सवालों के बारे में बताएंगे, जिनका जवाब अक्सर लोग जाना चाहते है।

जानें छठ में किन देवी-देवताओं की पूजा की जाती है ?

छठ के दिन भगवान सूर्य देवता की पूजा की जाती है जो की सभी प्राणियों के जीवन के आधार हैं। इतना ही नहीं इसके साथ छठ के दिन छठ मैया की भी पूजा भी की जाती है। हमारी पौराणिक मान्‍यता के अनुसार छठ माता अपनी संतानों की रक्षा करती है और उन्हें स्‍वस्‍थ और दीघार्यु भी बनाती है। बता दें कि छठ के दिन भगवान सूर्य और छठी मैया की पूजा की जाती है जो कि अपने आप में बेहद खास बन जाती है।

भगवान सूर्य देवता

भगवान सूर्य देवता को तो सभी जानते है लेकिन छठ मैया कौन सी देवी है

आपको बता दें कि ब्रह्मवैवर्तपुराण के प्रकृतिखंड में बताया गया है कि सृष्‍ट‍ि की अधिष्‍ठात्री प्रकृति देवी के एक प्रमुख अंश को देवसेना कहा गया है और प्रकृति का छठा अंश होने के कारण इन देवी को षष्‍ठी नाम दिया गया है। बता दें कि षष्‍ठी देवी को ब्रह्मा की मानसपुत्री भी कहा गया है इतना ही नहीं पुराणों के अनुसार इन्हे ही कात्‍यायनी माता भी कहा जाता है जिनकी पूजा हम नवरात्र के दौरान भी करते है।

छठ पूजा

जाने अक्सर महिलाएं ही छठ पूजा क्‍यों करती हैं?

ये बता तो हम सभी लोग जानते है कि हमारे देश में महिलाएं अनेकों कष्‍ट सहकर भी अपने परिवार के कल्‍याण की न सिर्फ कामना करती हैं, बल्कि इसके लिए तरह तरह के यत्‍न करने में भी पुरुषों से आगे रहती है। आपको बता दें कि वैसे तो छठ पूजा कोई भी कर सकता है फिर चाहे वो महिला या पुरुष। लेकिन ये बात तो हम सभी लोग जानते हैं कि हमारे देश में महिलाएं अपने बच्चों की कामना, संतान के स्‍वास्‍थ्‍य और उनके दीघार्यु होने के लिए पुरुषों की तुलना में ज्यादा पूजा पाठ करने में बढ़ चढ़कर भाग लेती है।

Chhath Puja 2021: क्यों मनाई जाती है छठ पूजा, नहाय खाय, खरना और सूर्य पूजा का शुभ मुहुर्त

जाने छठ पूजा का बिहार से विशेष संबंध क्‍यों है ?

ये बात तो हम सभी लोग जानते है कि बिहार में छठ पूजा का विशेष महत्व होता है। इस दिन सूर्य की पूजा के साथ छठी मईया की भी पूजा की जाती है। जो की इस पूजा के मामले में बिहार को खास बना देता है। आपको बता दें कि हमारे देश में जहां भी प्राचीन और भव्‍य सूर्य मंदिर है उनमें से बिहार भी प्रमुख है। बता दें कि बिहार के औरंगाबाद जिले के देव में प्रसिद्ध सूर्य मंदिर है। यहां लोग दूर दूर से अपनी मनोकामना लेकर और दर्शन करने आते हैं। यहां खास कर कार्तिक और चैत महीने में छठ पूजा के दौरान व्रत करने वालों और श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटती है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button