Categories
सामाजिक

जानें क्या हैं पंजाबी शादी में दुल्हे के घर की रस्में

जाने पंजाबी दूल्हे की घर की रस्मे


शादी का जिदंगी में एक अलग ही महत्व होता है। शादी सिर्फ दो आत्माओं का ही मेल नहीं ब्लकि दो परिवारों को भी एक नए रिश्ते में जोड़ता है। देश के 29 राज्यों में अलग-अलग तरीके और अलग-अलग रीति रिवाजों से शादी होती है।
कहीं दिन में शादी होती है तो कहीं रात में। शादियां से कई तरीकों से की जाती है। लेकिन पंजाबी शादी की तो बात ही अलग है। पंजाबियों की ठाठ बाठ ही अलग है। उनका खुले दिल का मिजाज शादी में चार चांद लगा देता है। तो चलिए आज आपको बताते है पंजाबी शादी में दुल्हने की तरफ कौन-कौन सी रस्में होती है। वैसे तो मॉर्डन जमाने में लोग कई रीति-रिवाजों को छोड़ देते है। लेकिन कुछ चीजें आज भी शादी में प्रचलित है।

भाई को सेहरा लगाती बहनें

और पढ़े : शादी में कैसे करे फूलो से सजावट

रोका

जब शादी के लिए दुल्हा और दुल्हन पक्के हो जाते हैं तो रोके की रस्म अदा की जाती है। इस रस्म के दौरान लड़का और लड़की को मिठाई और कुछ पैसे दिए जाते है। इसका मतलब यह होता है कि अब हमने यह रिश्ता शादी के लिए पक्का कर दिया है।

शगुन

पंजाबी शादी में सबसे अहम है शगुन, लेकिन आज की व्यस्तता वाली जिदंगी में लोग को इस रस्म को शादी वाले दिन ही पूरा करते हैं। इस रस्म के दौरान लड़की के पापा लड़के को कुछ सामान देते है और छवारा खिलाते हैं।

तेल हल्दी

वैसे से पंजाबी रीति के हिसाब से शादी के पांच दिन पहले तेल हल्दी लगाई जाती है। लेकिन अब ज्यादातर लोग एक या तीन दिन का पालन करते हैं।

संगीत

पहले के जमाने से जिस दिन लड़के को तेल लगता है उस रात से औरतें शादी के गीत गाने लगती थी। यह कारवा लगभग शादी से पहली वाली रात तक चलता था। लेकिन अब इन सब की जगह डीजे ने ले ली है। इसलिए लोग आजकल शादी से एक दिन पहले तेल हल्दी लगाते हैं और रात को डीजे पर थिरकते हैं।

दही चढ़ाना

शादी वाले दिन लड़को को दही से नहलाया जाता है। लड़के को उसका जीजा नहलाया है। उसके बाद दुल्हे को खारे( जिस पर बैठकर दुल्ह नहाता हैं) से उसका मामा या नाना उतरते हैं।

सेहरा

सबसे मुख्य हिस्सा यह शादी का दुल्हे को उसकी बहन सेहरा बांधती है।

घोड़ी चढ़ना

जब बरात निकलती है तो दुल्हे को घोड़ी चढ़ाया जाता है। उसके बाद उसकी बहनें से जाने से रोकती है। इस समय दुल्हा अपनी बहनों के शगुन देता है।

सूरमा डालना

इस मौके पर दुल्हे की भाभियां उस सूरमा डालती है। इसके बाद बरात आगे के लिए प्रस्थान करती हैं।

मिलनी

इस मौके पर दोनों तरफ से लोग एक दूसरे से मिलते है और कुछ भेंट भी देते हैं।

शादी

सबसे से पावन मौका। इस मौके पर दुल्हा और दुल्हन गुरु ग्रन्थ साहिब के पांच फेरे लेते हैं और सदा के लिए एक हो जाते हैं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
सामाजिक

बिना बोले समझें पुरुषों की ये फीलिंग्स…….

प्रेमिका समझें ये बातें


हमें पता है सभी पुरुषों का स्वभाव एक जैसा नहीं होता…. सभी अलग-अलग स्वभाव के होते है लेकिन फिर भी कुछ ऐसी बातें होती हैं जो हर पुरुष चाहता है कि उनकी प्रेमिका उनके बारे में जानें और उन्हे समझें। जैसे की पुरुषों को कई बार यह देखकर आश्चर्य होता है कि, महिलाएं कुछ बातों को संकेतो से प्रकट करती हैं या पुरुष का इंतजार करती हैं की वह खुद पहले उनसे आकर बात करें…. यह बातें पुरुषों को काफी अजीब लगती हैं। पुरुषों को अच्छा लगता है यदि कोई महिला आगे आकर वह बात कहती है जो वह चाहती है।

फीलिंग्स

आजकल अधिकतर पुरुषों को वे महिलायें ज्यादा अच्छी लगती हैं जो इस बात का इंतज़ार नहीं करती कि, पुरुष आकर उनसे पूछे कि वे क्या चाहती हैं।

∙ वह पुराने जमाने मे होता था जब पुरुष यह अपेक्षा करते थे कि, महिलाओं को शर्मीला और सहनशील होना चाहिए। लेकिन आजकल पुरुषों को यह सब पसंद नहीं आता। आईए जानते है इन सब के अलावा ऐसी ही कुछ बातें हैं जिनके बारे में पुरुष चाहते हैं कि महिलायें इन बातों को जानें…….

∙ वह पुराना जमाना था जब हमेशा पुरुष ही पहल करते थे आजकल अधिकतर पुरुषों को यह अच्छा लगता है कि महिला पहला कदम बढ़ाये।

∙ कई बार सड़क पर चलते समय पुरुष दूसरी स्त्री की तरफ देखते हैं तो इसका यह मतलब नहीं है कि वह उसमें रूचि ले रहा है या सुंदर नहीं है।

∙ वह हमेशा आपके बारे में सोचता रहता है लेकिन उसने आपसे कभी कहा नहीं है। कुछ पुरुष अपनी फिलींग को सही ढंग से व्यक्त नहीं कर पाते हैं जिससे महिलायें ऐसा सोचती हैं कि ऐसे पुरुषों के पास फीलिंग्स ही नहीं हैं।

∙ पुरुषों को सबसे ज्यादा गुस्सा तब आता है जब आप उन्हें उत्तेजित करके उन्हें बिना संतुष्ट किये छोड़ देती हैं।

∙ कभी कभी उन्हे आपके साइड में शांत बैठे रहना अच्छा लगता है। आपकी उपस्थिति में समय बिताना उनके लिए यादगार समय होता है, अगर वे शांत बैठे है या कुछ बोल नहीं रहे तो आपको उनकी फीलिंग्स समझनी चाहिए।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
सामाजिक

हमें जमीन पर बैठकर खाना क्यों खाना चाहिए…..

जमीन पर बैठकर खाने के फायदे


कहा जाता हैं कि वक्‍त के साथ-साथ खुद को बदलने में ही समझदारी है, लेकिन जमाने के साथ कई चीजें यूं ही नहीं चली आ रही हैं। उनके पीछे कुछ वजहें छिपी हैं, जैसे कि जमीन पर बैठकर खाने की भारतीय परंपरा को ही ले लीजिए। जमीन पर बैठकर खाने के पीछे कई फायदे भी छिपे थे जो शायद आपको नहीं पता….

आपने सुखासन योग के बारे में तो सुना ही होगा, जिसमें पालथी मारकर बैठते हैं। नीचे बैठकर खाते समय भी हम पालथी मारकर बैठते हैं जिससे हमारा शरीर लचीला बनता है और मन शांत रहता है। इसके अलावा जमीन पर बैठने से तनाव भी खत्‍म होता है।

जमीन पर बैठकर खाना

∙         जमीन पर बैठकर खाते समय हमारा शरीर आगे की तरफ झुकता है और फिर सीधी मुद्रा में आता है। ऐसे में हमारे शरीर में पाचन क्रिया भी सही रहती है और आप अपच की परेशानी से बच जाते हैं। इसलिए अगर मोटापे की समस्‍या से परेशान हैं तो फिर से जमीन पर बैठकर खाना शुरू कर दीजिए।

∙         मौजूदा जीवनशैली को देखते हुए लोगों में मोटापे की समस्‍या आम हो गई है, मगर आप यह जानकर जरूर हैरान रह जाएंगे कि जमीन पर बैठकर खाने से हमारा वजन भी नियंत्रित रहता है। पालथी मारकर बैठने से आपका दिमाग शांत रहता है और पूरा ध्‍यान खाने पर होता है। ऐसे में आप जरूरत से ज्‍यादा खाने से भी बचते हैं।

∙         जमीन पर बैठकर खाने से हमारे शरीर में खून का बहाव भी सही होता है और इस तरह दिल बड़ी आसानी से पाचन में मदद करने वाले सभी अंगों तक खून पहुंचाता है, लेकिन जब आप कुर्सी पर बैठ कर खाना खाते हैं तो यहां ब्लड सर्कुलेशन विपरीत होता है। इसमें सर्कुलेशन पैरों तक होता है, जो कि खाना खाते समय जरूरी नहीं होता है।

∙         एक और फायदा जो जमीन पर बैठकर खाने से होता है, वो हमारे शरीर से नहीं बल्कि हमारे पारिवारिक प्रेम से जुड़ा हुआ है। जमीन पर अपने परिवार के साथ बैठकर खाने से आपसी प्रेम व सामंजस्‍य बढ़ता है। यह एक पारिवारिक गतिविधि का हिस्‍सा होता है जब सभी लोग एक साथ बैठकर हंसी- खुशी खाना खाते हैं।

Categories
सामाजिक सेहत

शरीर पर तिल से जानिए अपना भविष्य

जाने शरीर पर तिल के पिछे का राज़


लोग अपने भविष्य के बारे में सोचकर अक्सर परेशान रहते हैं और सोचते हैं कि पता नहीं उनके किस्मत में क्या लिखा है। अपने बेहतर भविष्य की चिंता हर किसी की होती है चाहे वह लड़का हो या लड़की। आपकी इसी चिंता को हम थोड़ा दूर करने के लिए हम आपको कुछ ऐसी जानकारी देगें जिससे आपकी चिंता कम हो जाएगी। शास्त्रों में बताया गया है कि हमारे शरीर पर पाए जाने वाले निशान जिसको हम तिल या मस्सा कहते हैं। तिल सिर्फ सुंदरता का प्रतीक नहीं है बल्कि यह व्यक्ति के भविष्य में घटने वाली घटनाओं का भी संकेत देता है। लगभग हर व्यक्ति के किसी न किसी अंग पर तिल जरुर पाया जाता है। उस तिल का महत्व क्या है? शरीर के अलग-अलग अंगों पर तिल होने से आप अपने भविष्य का अनुमान लगा सकते हैं। आइये जाने शरीर पर तिल से अपना भविष्य

शरीर पर तिल

और पढ़े : खूबसूरत दिखने के लिए पढ़े ये टिप्स

हम आपको बता दे कि शरीर के किस अंग पर तिल होने के क्‍या प्रभाव होते हैं:

∙ गालो पर तिल- दाहिने गाल पर तिल हो तो धन से परिपूर्ण रहेगें और अगर बायें गाल पर तिल हो तो धन की कमी के कारण परेशान रहेंगे।
∙ माथे पर तिल- माथे के दायें हिस्से पर तिल हो तो धन हमेशा बना रहता है और अगर बायें हिस्से पर तिल हो तो जीवन भर कोई न कोई परेशानी बनी रहती है।
∙ ललाट पर तिल- ललाट पर तिल होने से धन सम्पदा व ऐश्वर्य का भोग मिलता है।
∙ आँख पर तिल- दांयी आंख के ऊपर तिल हो तो जीवन साथी से हमेशा और बहुत ज्‍यादा प्रेम मिलता है और अगर बायीं आंख पर तिल हो तो जीवन में संघर्ष व चिन्ता बनी रहेगी।
∙ होटों पर तिल- होंठ पर तिल होने से काम चेतना की अधिकता रहेगी और होंठ के नीचे तिल हो तो धन की कमी रहेगी, होंठ के उपर तिल हो तो व्यक्ति धनी होता है,लेकिन जिद्दी स्वभाव का भी होता है।
∙ कान पर तिल- बायें कान पर तिल हो तो दुर्घटना से हमेशा बच कर रहना चाहिये और दाहिने कान पर तिल होने से अल्पायु योग किन्तु उपाय से लाभ होगा।
∙ नाक पर तिल – नाक पर तिल हो तो आप जीवन भर यात्रा करते रहेंगे।
∙ हाथ पर तिल – दायीं हथेली पर तिल हो तो धन लाभ अधिक होगा और बायीं हथेली पर पर तिल हो तो धन की हानि होगी।
∙ पैर पर तिल- पांव पर तिल होने से यात्रायें अधिक करता है।
∙ गर्दन पर तिल- गर्दन पर पर तिल हो तो जीवन आराम से व्यतीत होगा, यक्ति दीर्घायु, सुविधा सम्पन्न तथा अधिकारयुक्त होता है।

और पढ़े : एक्सरसाइज करने से शरीर में होते हैं ये अच्छे बदलाव !