फिल्म उड़ता पंजाब से 13 जगह कैंची चलाने की सलाह

0
735

फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ लगातार विवादों में घरी हुई है और यह विवाद रूकने का नाम नहीं ले रहा है। सेंसर बोर्ड के अध्येक्ष पहलाज निहलानी और फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ के निर्माता अनुराग कश्यरप के बीच खींचतान जारी है। बुधवार को फिल्म् ‘उड़ता पंजाब’ के समर्थन में निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट भी आगे आए। फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने सेंसर बोर्ड पर आरोप लगाया है कि सेंसर बोर्ड जानबूझ कर फिल्म के प्रमाणण में देरी कर रहा है।

सेंसर बोर्ड ने फिल्म के नाम के साथ पूरी फिल्म से ‘पंजाब’ शब्द हटाने और कहानी में 89 जगहों पर कैंची चलाने को कहा है। सेंसर बोर्ड का यह फैसला निर्माताओं को रास नहीं आया है जिसके बाद वे सेंसर बोर्ड के खिलाफ बंबई उच्च न्यायालय चले गए हैं।
सेंसर बोर्ड ने फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ के निर्माता को 13 सुझाव दिए हैं और ये 13 सुझाव मानने पर ही फ़िल्म को सेंसर बोर्ड की ओर से ‘ए’ सर्टिफ़िकेट दिया जाएगा।

udata punja 2

फिल्म उड़ता पंजाब

आइए जानते है कौन से हैं वो 13 सुझाव…

• सेंसर बोर्ड ने फ़िल्म की शुरुआत से पंजाब का साइन बोर्ड हटाने को कहा है।

• फ़िल्म ‘उड़ता पंजाब’ से पंजाब, जालंधर, चंडीगढ़, अमृतसर, तरनतारन, जशनपुरा, अबेसर, लुधियाना और मोगा के बोर्ड और डायलॉग से हटाने को कहा है।

• सेंसर बोर्ड ने फ़िल्म के गानों पर कैंची चलाने को बोला है गाना नंबर 1 से ‘चिट्टावे’ शब्द हटाने को कहा है।

• दूसरे नंबर के गाने से ‘टॉ दी कॉक जेव्हे चिट्टी चिट्टी’ और ‘कोक’ जैसे शब्दो हटाने को कहा है।

• तीसरे गाने में सरदार के खुजली करने वाले एक सीन पर भी आपत्ति जताई है।

• फ़िल्म में ‘इलेक्शन’, ‘एमपी’, ‘पार्टी’, ‘एमएलए’, ‘पंजाब’ ,’पार्लियामेंट’ जैसे शब्दोंल का इस्तेमाल हुआ है जिससे सेंसर बोर्ड ने हटाने को कहा है।

• फ़िल्म में शामिल 14 गालियों को भी हटाने को कहा गया है।

• एक क्लोज़अप शॉट हटाने को कहा जिसमें ड्रग्स के लिए इंजेक्शन लेते हुए है

• टॉमी सिंह के क़िरदार के चंद आपत्तिजनक एक्शन हटाने का सुझाव दिया है और ‘ज़मीन बंजर ते औलाद कंजर’, इस लाइन को भी हटाने को कहा है।

• सेंसर बोर्ड ने कुत्ते का नाम पर आपत्ति जताई है कुत्तेा का जैकी चैन नहीं होना चाहिए।

• अंत में एक सुझाव और दिया है कि फिल्म की शुरुआत में ये डिस्क्लेमर चले, ”फ़िल्म ‘उड़ता पंजाब’ ड्रग्स के बढ़ते असर और इसके खिलाफ़ चल रही लड़ाई को दिखाती है। हम मानते हैं कि इसके लिए पुलिस और सरकार कोशिशें कर रही हैं। लेकिन ये लड़ाई लोगों के सहयोग के बिना नहीं जीती जा सकती है।

• फ़िल्म का दूसरा डिस्क्लेमर बढ़ाने के लिए भी कहा गया है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at

info@oneworldnews.in