सेहत

सही शारीरिक मुद्रा के फ़ायदे

6 फ़ायदे सही शारीरिक मुद्रा के


हमने यह तो कई बार सुना है की हमें सीधे बैठना चाहिए और हमें खड़े होते समय भी अपने खड़े होने के ढंग पर ध्यान रखना चाहिए। हम सभी यह बात अपने बचपन से सुन रहे हैं, कभी हमारी अध्यापिका हमें यह बोलती थी तो कभी घर पर माता पिता। बदक़िस्मती से कुछ लोग यह बात अपने डॉक्टर से भी सुन चुके होते हैं जब कमर दर्द की वजह से उनके काम की छुट्टी हो जाती है। हम सभी जानते हैं कि एक अच्छा अंग विन्यास होना अत्यंत आवश्यक है परंतु क्यों?

अंग विन्यास के फ़ायदे जान लेने से पहले बेहतर होगा की हम यह जान लें की सही मुद्रा क्या है और इसे हांसिल कैसे करें। बैठने का सही तरीक़ा होता है की कमर सीधी होनी चाहिए, नितंब वाला भाग कुर्सी के अंतिम हिस्से पर होना चाहिए, अपने पै ज़मीन पर सपाट रखिए और घुटनों को समकोण बनाकर मोड़िए। खड़े होते समय कान, कंधे, नितंब, घुटने और पैर सीधी रेखा मे होने चाहिए।

सही शारीरिक मुद्रा के फ़ायदे

यहाँ पढ़ें : क्यों आवश्यक हैं विटामिन

आइए अब जानते हैं सही मुद्रा के फ़ायदे:-

  1. सही अंग विन्यास ऊर्जा का प्रतीक होता है। सही मुद्रा चुस्ती-फुर्ती का परिचय देती है जबकी गलत मुद्रा सुस्ती का प्रतीक होती है। ये केवल प्रतीक ही नही होते बल्कि इनसे हमारे शरीर में ऊर्जा उत्पन्न भी होती है।
  2. सही मुद्रा से कमर दर्द और गर्दन दर्द ख़त्म करने में भी सहायता मिलती है। झुके रहने से या ग़लत तरीक़े से बैठेने से माँसपेशियों पर ज़ोर पड़ता है जिससे उनके दर्द होना साधारण बात है। यह देखा हुआ है की जिन लोगों को कमर दर्द हॉट है यदि वे सही तरीक़े से बैठने लगें तो कमर दर्द जल्दी ठीक होता है।
  3. जब हमारा शरीर सही मुद्रा में होता है तब मनुष्य की ख़ूबसूरती में  चार चाँद लग जाते हैं। सही मुद्रा के साथ आत्मविश्वास भी आता है। आत्मविश्वास जो व्यक्तित्व के अच्छे होने के लिए बहुत ज़रूरी होता है।
  4. सही तरीक़े  से बैठने से आप बेहतर तरीक़े से साँस ले पाते हैं। सही अंग्विन्यास से श्वास नली खुल जाती है और साँस लेने की प्रक्रिया आसान और बेहतर होती है। ऐसा करने से रक्त ऑक्सिजन को आसानी से पूरे शरीर में पहुँचा देता है।
  5. हमारे अंग विन्यास का असर हमारे भावों पर भी पड़ता है। एक अनुसंधान में यह देखा गया कि जो लोग सीधे और सही तरीक़े से बैठे थे वे ज़्यादा सकारात्मक, ऊर्जा से युक्त और प्रसन्न थे जबकि जो लोग सही नही बैठते वे दुखी, अकेला और ऊर्जा से रहित महसूस करते हैं।
  6. यदि आपको तनाव है और तब आप बेसुध होकर बैठे हैं तब केवल आपका तनाव बढ़ेगा। ऐसे बैठे रहने से आपको  नकारात्मक ख़याल आएँगे और मन भी ख़राब रहेगा तो इसलिए तनाव के पलों में भी अच्छे से बैठें ताकि आप अच्छी बातों के बारे में सोच पाएँ।
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button