Categories
सेहत

Benefits of methi water: मेथी के पानी से होती हैं मधुमेह समेत कई बीमारियां दूर

Benefits of methi water: मेथी का पानी पीने के ये फायदे जान चौंक जाएंगे आप


मेथी के पानी के लाभ –

मेथी का पानी एक ऐसी चीज़ है जिसका सेवन कोई भी कर सकता है। यह वजन घटाने की सुविधा प्रदान करता है, और साथ आपके लिवर, किडनी और मेटाबॉलिज्म के लिए अच्छा है। मेथी के पानी के लाभ बहुतायत में हैं। चलिए जानते हैं मेथी का पानी पीने से आपकी सेहत को क्या-क्या लाभ हो सकते हैं।

मेथी का पानी पीने के फायदे –

वजन कम करने में मददगार –

मेथी का पानी पीने से आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगेगी। मेथी फाइबर से भरी होती है जो आपको परिपूर्णता का एहसास देती है। इससे आपको अपने वजन को नियंत्रि‍त करने में मदद मिलती है।

बालों के विकास में फायदेमंद-

मेथी के बीज में पोषक तत्व होते हैं जो बालों के विकास में मदद करते हैं। मेथी के पानी का सेवन बालों के विकास को बढ़ावा देता है, बालों की मात्रा में सुधार करता है, और बालों की समस्याओं जैसे रूसी, खुरदरापन भी दूर करता है।

पाचन समस्याओं से लड़ने में मददगार –

मेथी का पानी आपके शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और यह आपके मल त्याग को बेहतर बनाने में भी मदद करता है, साथ ही यह आपको पाचन समस्याओं से लड़ने में मदद करता है। यह कब्ज, अन्य पाचन समस्याओं के बीच अपच को रोकता है।

और पढ़ें: गर्मी के मौसम में ठंडक व ताजगी का नुस्खा – नारियल पानी

मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद –

मधुमेह रोगियों के लिए मेथी के बीज एक बेहतरीन उपाय है। मेथी रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती है। मेथी के बीज में एमिनो एसिड यौगिक अग्न्याशय में इंसुलिन स्राव को बढ़ाते हैं जो शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है।

किडनी और हार्ट के लिए है अच्छा –

मेथी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और इसका पानी हार्टबर्न के इलाज और गुर्दे की पथरी में मदद करता है। मेथी के बीजों के पानी में प्राकृतिक घुलनशील फाइबर मौजूद होता है जो आपके दिल के लिए अच्छा होता है जो ी आपके दिल को हार्ट अटैक से बचाते हैं। मेथी का पानी पीने से रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती है और ये हृदय की समस्याओं के जोखिम को रोकते हैं। मेथी के बीजों का पानी किडनी के स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाने में मदद करता है।

त्वचा की समस्याओं को करता है दूर –

यह पानी आपकी त्वचा के लिए भी बहुत अच्छा है। मेथी आपके पाचन तंत्र पर काम करती है और आपके शरीर से सभी हानिकारक विषाक्त पदार्थों को निकाल देती है। यह मुंहासे और कई अन्य त्वचा की समस्याओं जैसे महीन रेखाओं, काले धब्बों और झुर्रियों को रोकता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

Single Mother problems – 5 समस्याएं जिनका सिंगल मदर को करना पड़ता है सामना

5 बातें जो कभी भी एक सिंगल मदर से नहीं कहनी चाहिए


Single Mother problems: पहले ज़माने में कहा जाता था कि बच्चा करना बहुत मुश्किल होता है और उससे भी मुश्किल होता है उस बच्चे का लालन – पालन करना। हालाँकि पहले जॉइंट फॅमिली हुआ करती थी इसलिए बच्चे आराम से पल जाते थे। आज के समय में जहाँ माता-पिता के लिए एक से अधिक बच्चे का लालन पालन करना मुश्किल होता है वही अगर बात करें अगर एक सिंगल मदर की तो यह एवेरेस्ट चढ़ने से कम नहीं लगता। उसके ऊपर समाज हमेशा उन महिलाओं को अलग नजर से देखता है जो अकेले अपने बच्चों की परवरिश करती हैं। एकल माताओं को अक्सर कठोर बातों से गुजरना पड़ता है। वह अपने बच्चे की कितनी परवाह करती हो, इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है, क्योंकि उन्हें समाज में एक अलग नजरिये से देखा जाता है।

लेकिन अगर हम एक सिंगल मदर की एक बच्चे के लिए भूमिका को देखें तो वो इसे अच्छे और ईमानदारी से निभा सकती हैं। वो एक माँ के रूप में एक अच्छी माँ और एक अच्छे पिता की भूमिका और कर्तव्यों को पूरा कर सकती है, और ऐसी कई महिलाएं हैं जो इस बात को साबित कर रही हैं। फिर भी दुःखद बात यह है कि अभी भी समाज में हमारे चारों ओर सिंगल-मॉम-शेमिंग के बारें में बातचीत होती है।

ऐसी बातें एक सिंगल माँ के विश्वास को गहराई से प्रभावित करती है इसलिए हमें इसे रोकने की जरूरत है। इसी तरफ पहल करते हुए आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएँगे जिन्हें किसी को भी किसी सिंगल मदर से नहीं बोलनी चाहिए।

तुम्हारी ज़िंदगी एक आदमी के बिना अधूरी है…

क्या आपको लगता कि एक महिला के जीवन मे एक आदमी का होना ही आदर्श होता है? क्या आपको लगता है कि एक आदमी के बिना महिला का जीवन अधूरा होता है। हमारे आस-पास के बहुत से लोग इस कथन पर विश्वास करते हैं, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। एक सिंगल मदर बिना किसी पुरुष के अपने आपको और अपने बच्चे को पाल सकती है। वो उसके बिना भी अपने बच्चे को वो सब कुछ दे सकती है जो उसकी हैसियत में होता है। अगर महिला को लगता है कि एक गलत आदमी घर की शांति में बाधा डाल सकता है तो उस माँ के लिए अपने बच्चे की देखभाल अकेले करना ही बेहतर होता है। अगर वह अपने बच्चे को खुद से बड़ा करने के लिए आश्वस्त है तो उसे एक आदमी को अपने जीवन में लाने के बारे में परेशान नहीं होना चाहिए। इसलिए हमें एक एकल माँ के जीवन में विपरीत लिंग के दूसरे व्यक्ति की अनुपस्थिति पर सवाल उठाना बंद कर देना चाहिए।

आप दोबारा शादी कर लो, जीवन सुधर जाएगा।

यदि एक माँ ने अपने बच्चों और खुद की देखभाल करने के लिए एकल रेहान चुना है तो क्या आपको नहीं लगता कि उसने बहुत सोच-विचार के बाद ऐसा निर्णय लिया है? हमें उसके फैसले का समर्थन करने की जरूरत है न कि उसकी विश्वसनीयता पर सवाल उठाने की। हमें उससे दुबारा शादी करने का सुझाव नहीं देना चाहिए। एक महिला जीवन भर अविवाहित रह सकती है और फिर भी खुश रह सकती है। एक महिला अपनी इच्छा से अपने बच्चे और खुद को खुश रख सकती है। कौन जानता है शादी के बाद वो व्यक्ति उन्हें खुश रखेगा या नहीं। आंकड़े बताते हैं कि संयुक्त राज्य में लगभग एक तिहाई बच्चे सिंगल मदर्स द्वारा पाले जाते हैं।

परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है।

परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है, बेशक, ये सटीक शब्द है और आज भी हमारा समाज इस बात को मानता है कि एक महिला और उसके बच्चे के जीवन में उसके पति और बच्चे के पिता का बहुत बड़ा रोल होता है। लेकिन इसका मतलब यह है कि यह बात सुनिश्चित है। इस कथन में एक अंतर्निहित मुखरता है कि परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है। हर कोई अलग है और जरूरी नहीं है कि हम हमेशा अपने जीवन में सही निर्णय ले सकें। संभावना है कि हम उन लोगों के साथ खुश रहें जिन्हें हम प्यार करते हैं, लेकिन कुछ वर्षों के बाद प्यार खत्म हो सकता है। यह स्वाभाविक है। महिला के एकल माँ होने का कारण कुछ भी हो सकता है – जैसे पति के साथ खुश ना रह पाना, तलाक, दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियां या कुछ अन्य। इसलिए एक सिंगल मदर अपने बच्चों के साथ और एक आदमी के बिना अपना जीवन ख़ुशी से जी सकती है।

और पढ़ें: क्या आपके सभी Financial Matter आपका पति हैंडल करता हैं?

तुम एक अकेली माँ हो? मुझे यह जानकर दुःख है।

अगर कोई महिला एक सिंगल मॉम हैं तो आपको इस बारें में उनके सामने कोई दुःख या खेद जाहिर करने की जरुरत नहीं हैं। आप खेद क्यों महसूस कर रहे हैं? और किस लिए? सिर्फ इसलिए कि वह एक सिंगल मॉम है, आपको इस बारे में खेद नहीं होना चाहिए। आप इसके बदले उनकी प्रशंसा करें या उनके रुख की सराहना करें। इन बातों से उनका चेहरा मुस्कुराहट के साथ खुश हो सकता है। आप उनकी सराहना करें, यह उन्हें और अधिक मजबूत बनाएगा।

अकेली माँ किसी अन्य महिला के पति पर नज़र रखती है।

अगर एक महिला सिंगल मॉम है और स्वतंत्र मजबूत महिला है तो किसी अन्य महिला के पति पर नज़र रखती है। यह एक ऐसी धारणा है जो हमारे समाज में व्याप्त है। एक अकेली माँ किसी अन्य महिला के पति पर नज़र क्यों रखेगी? यह उन सभी भ्रांतियों का सबसे बड़ा कारण है जो समाज में फैला हुआ है और यह बात सिंगल मदर के लिए परेशान करने वाला होती है। अगर वह सिंगल है और वह अविवाहित है तो वो इसलिए क्योंकि उसे किसी आदमी की जरूरत नहीं है। हमें इस तरह की असंवेदनशील और आधारहीन धारणा बनाने से बचना चाहिए!

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

Coconut water benefits in Hindi: गर्मी के मौसम में ठंडक व ताजगी का नुस्खा – नारियल पानी

Coconut water benefits in Hindi: नारियल पानी के ये 5 फायदे देंगे आपको हैरान


Coconut water benefits in Hindi: गर्मी के मौसम के आते ही हम ठंडक व ताजगी महसूस करना चाहते हैं और कुछ ऐसे ऑप्शन की तलाश करते हैं जो हमें गर्मी से बचा कर रखें। इसी के साथ हम कुछ ऐसा ऑप्शन चाहते है जो स्वाद के साथ-साथ स्वास्थ्य वर्धक भो हों। ऐसे में नारियल पानी से बेहतर कुछ नहीं होता है। नारियल पानी पीने से न सिर्फ गर्मी दूर भागती है, बल्कि यह सेहत के लिए भी एक अच्छा ऑप्शन है। नारियल पानी प्राकृतिक रूप से शुद्ध मीठा पानी होता है जो किसी भी तरह के केमिकल से फ्री होता है। नारियल पानी गर्मी के साथ-साथ कई अन्य शारीरिक समस्याओं से बचाने में भी सक्षम होता है। आइये जानते हैं नारियल पानी के फायदे।

ह्रदय के लिए

ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना, खुश रहना और संतुलित व पौष्टिक भोजन करना बेहद जरूरी होता है। अगर आप रोजाना नारियल पानी का सेवन करते हैं तो यह आपके ह्रदय के लिए लाभदायक होता है। नारियल पानी शरीर में लिपिड मेटाबॉलिज्म का स्तर नियंत्रित करके ह्रदयाघात की आशंका को कम करता है। ह्रदय रोगियों को इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

रक्तचाप

नारियल पानी पीने से रक्तचाप नियंत्रित रहता है और साथ ही यह उच्च रक्तचाप के स्तर को भी कम करता है। इसी के साथ यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है और धमिनयों में रक्त के थक्के को बनाना कम करता है।

किडनी पथरी

किडनी में क्रिस्टल पदार्थ इकट्ठा होने पर किडनी पथरी की समस्या हो जाती है। किडनी पथरी में तेज दर्द के साथ स्वास्थ्य से जुडी अन्य समस्याएं हो जाती हैं। नारियल पानी के सेवन से इस समस्या को दूर किया जा सकता है। नारियल पानी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो किडनी में जमा क्रिस्टल को कम करने में मदद करता है। नारियल पानी पीने से पथरी की समस्या में राहत मिलती है।

और पढ़ें: एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के घरेलू नुस्खे

पाचन तंत्र

पाचन तंत्र की समस्या के कारण कई अन्य समस्याएं जैसे गैस, एसिडिटी व कब्ज आदि की समस्या हो जाती हैं। जब शरीर में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जाते है तो पाचन तंत्र की समस्या को दूर किया जा सकता है। नारियल पानी में करीब नौ प्रतिशत फाइबर होता है जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

वजन कम करता है

नारियल पानी में कैलोरी की मात्रा कम होती है जिसके कारण वजन नियंत्रित रहता है। साथ ही नारियल पानी में फाइबर होता है जिसके कारण जल्द भूख नहीं लगती और हम कम खाना खाते हैं। वजन कम करने में नारियल पानी बहुत फायदेमंद होता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

बी-टाउन celebs जिन्होंने ने अडोप्शंस को कहा हाँ और बच्चों को दिया बेहतर जीवन

बॉलीवुड हस्तियाँ जिन्होंने बच्चों को गोद लेकर बेहतर जीवन दिया


हमारे समाज में बच्चा गोद लेना हमेशा प्रश्नों से घेरा रहा हैं। जब भी कभी गोद लेने का नाम आता है तो लोग प्रश्न भरी नजरों से देखते हैं या महिला के बाँझ होने पर  सवाल उठा देते हैं।निश्चित रूप से माता-पिता बनने समाज का एक सबसे पारंपरिक तरीका है लेकिन आज भी समाज में कुछ ऐसे लोग है जो बच्चों को गोद लेने का फैसला करते हैं। ऐसा करने का मतलब यह नहीं कि उन्हें बच्चा नहीं हो सकता बल्कि वो गर्भवती होने की कठिन प्रक्रिया से गुजरना नहीं चाहते और वो समाज की भलाई के बारें में सोचते हैं।

आज भी हमारे समाज में कुछ ऐसी बॉलीवुड हस्तियां है जिन्होंने बच्चे को गोद लेने की निर्णय लेकर उन्हें एक बेहतर जीवन दिया। साथ ही उन्हें सभी हक़ और प्यार भी दिया। ऐसा साहसिक कदम उठाने का फैसला उन्होंने अपने बलबूते पर लिया।आइये जानते है ऐसी बॉलीवुड हस्तियां जिन्होंने ऐसा कदम उठाया।

1. मिथुन चक्रबर्ति

हमारे समाज में जहाँ लड़की के होने पर उसे सड़क पर छोड़ दिया जाता है या मार दिया जाता है वही मिथुन दा ने पश्चिम बंगाल में एक गलियारे में कचरे के ढेर के पास एक बच्ची को बचाते हुए उससे एक नया जीवनदान और एक बेहतर जीवन दिया। हालाँकि दिशानी को अपनाने से पहले मिथुन और उनकी पत्नी योगिता बाली के पहले से ही तीन बेटे थे- मिमोह, रिमोह और नमशी। दिशानी अब न्यूयॉर्क में अभिनय का कोर्स कर रही हैं।

2. शोभना

एक प्रमुख समाचार पोर्टल के अनुसार, प्रसिद्ध भरतनाट्यम नर्तक और मलयालम अभिनेता ने 2001 में एक बच्ची को गोद लिया था जब वो सिर्फ 6 महीने की थी। अब वो 6 माह की बच्ची जिसका नाम अनंतनारायणी रखा था, अब एक प्यारी सी लड़की बन गई है। शोभना ने अपने जीवन में बेबी अनंतनारायणी का खुले हाथों से स्वागत किया है और वह अकेले ही उसको बड़ा करने में लगी हैं।

3.सुष्मिता सेन

सुष्मिता सेन ने अपने जीवन में हर भूमिका को अत्यंत सफलता के साथ निभाया है। चाहे वह मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता जीतने की बात हो या ऑनस्क्रीन किसी महिला भूमिका को निभाने की बात कही हैं। दूसरी तरफ एक सिंगल मदर बनने में भी वो कामयाब रही। दो खूबसूरत लड़कियों रिनी  और अलिसाह को गोद लेना उनके जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक है। हमारे देश में गोद लेने के कठिन कानूनों के कारण, दूसरी बेटी को गोद लेना सुष्मिता के लिए आसान नहीं था। हमारे कानून के मुताबिक, एक ही लिंग के दो बच्चों को अपनाने की अनुमति नहीं होती है। अभिनेत्री ने सभी कानूनी बाधाओं के होने के बावजूद दो बेटियों को गोद लिया।

Read more: Holi Detox – होली के बाद बॉडी डेटॉक्स करने के लिए 5 टिप्स

4. रवीना टंडन

रवीना टंडन ने दो खूबसूरत लड़कियों – छाया और पूजा को गोद लेने का फैसला किया।  उन्होंने उस वक़्त इन दोनों बच्चियों को गोद लिया जब जब वह अपने करियर के पीक पर थी। इस अभिनेत्री ने दूर के चचेरे भाई की लड़कियों को गोद लिया और उन्हें एक माँ के रूप में पाला। बाद में, उन्होंने अनिल थडानी से शादी कर की और शादी के बाद दो बच्चों  –  राशा और रणबीर को जन्म दिया। पूजा और छाया अब शादीशुदा खुशहाल जिंदगी जी रही हैं।

5. सलीम खान

प्रसिद्ध पटकथा लेखक, निर्माता और अभिनेता सलीम ने समाज के उन सभी मानदंडों को तोड़ दिया जब उन्होंने हेलेन से शादी करने के बाद अर्पिता को गोद लिया था। हालाँकि सलीम खान को हेलेन से अरबाज, सोहेल, सलमान और अलवीरा के पिता बनने का सुख मिला। अर्पिता की परवरिश उनके चार बच्चों के साथ हुई थी और वे उनके परिवार की एक मुख्य और प्यारी सदस्य हैं। उनकी शादी आयुष शर्मा के साथ हो चुकी हो और वीओ अब दो बच्चों की माँ हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

Holi Detox – होली के बाद बॉडी डेटॉक्स करने के लिए 5 टिप्स

 Holi Detox – इन 5 टिप्स से होगा बॉडी डिटॉक्सिफिकेशन


Holi Detox टिप्स

होली रंगों, मस्ती, ख़ाने और खेल का त्योहार है। दोस्तों और परिवार के साथ होली का जश्न मनाने और नए-नए पकवान खाने के लिए हर कोई तत्पर रहता है। जब होली पर कोई गुजिया, ठंडाई, चाट, मिठाइयां और कई अन्य स्वादिष्ट व्यंजन पेश करता है, हममे से कोई भी मना नहीं कर पाता है, और इसी के साथ हमारा वजन बढ़ जाता है। त्योहार मनाने का मज़ा अपनी जगह है और त्यौहार खत्म होने के बाद बॉडी डेटॉक्स करने और वजन घटाने का मज़ा अलग। होली पर खाये जाने वाले सभी खाद्य पदार्थ में वसा और कैलोरी उच्च होती है। आइये हम आपको होली के बाद बॉडी डिटॉक्स करने और वजन घटने के लिए कुछ सुझाव दे रहे हैं।

होली टिप्स – शरीर को डेटॉक्स करने और वजन घटाने के लिए

नींबू पानी

यदि आपको भूख लगती है या आपके द्वारा होली पर खाएं सभी खाद्य पदार्थों के मिश्रण के कारण बेचैनी महसूस होती तो नींबू पानी पियें। नींबू पानी पाचन में सहायता करता है और आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है। नींबू पानी वजन घटाने में मदद भी करता है और आपको बेहतर महसूस करावाता है। यदि आप बेचैनी महसूस कर रहे हैं तो यह टॉनिक राहत पाने में आपकी मदद करता है।

हल्का भोजन

जब आप होली पर हैवी लंच खा चुके हो तो अगले दो दिन तक हल्का खाना खाएं। आपके पेट और शरीर को आराम की जरुरत होती हैं, एक हल्का भोजन जैसे सलाद या दलिया या जई वास्तव में आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं और पाचन में भी सुधार करते हैं।

और पढ़ें: एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के घरेलू नुस्खे

वॉकिंग

होली खेलने के बाद आप बहुत थके हुए हो सकते हैं और आपको बहुत नींद भी आती है। लेकिन अगले एक सप्ताह तक आप सुबह – शाम टहलने के लिए थोड़ा बाहर निकलें। चलने से हमारा सिस्टम सामान्य महसूस करेगा और वापिस शेप में लाने में भी। ये हमारे शरीर और दिमाग को भी सक्रिय बनायेगा। वॉक पाचन में भी सहायता करेगा और कैलोरी बर्न करने में भी मदद करेगा।

रात की नींद लें

सुनिश्चित करें कि आप होली खेलने के बाद अगल कुछ रातों को अच्छी नींद लें क्योंकि यदि आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो थकान रहती हैं। कम नींद भी हमारे शरीर का वजन बढ़ाती हैं। कम नींद हमारे पाचन और वजन घटाने को भी प्रभावित करती हैं।

स्वस्थ नाश्ता

अगर आप बेहतर महसूस कर रहे हैं और आपको लगता है कि आपका शरीर डेटॉक्स हो गया है, तो अगले सप्ताह से एक स्वस्थ नाश्ता करें और दिन की शुरुआत अच्छे से करें। संपूर्ण आहार और नट्स, बीज और फलों के रस से बना एक पौष्टिक नाश्ता डिटॉक्स के लिए सही होता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बॉलीवुड

इन बॉलीवुड एक्ट्रेस के पास है एक्टिंग और सिंगिंग दोनों का टैलेंट

बॉलीवुड एक्ट्रेस जिन्होंने एक्टिंग के साथ-साथ अपनी आवाज़ से भी बनाया फैन


सिंगिंग और एक्टिंग दोनों में हाथ आजमाने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस

बॉलीवुड में टैलेंट की कमी नहीं है, बात चाहे एक्टर्स की हो या एक्ट्रेस की कोई भी कम नहीं है। इन दिनों बॉलीवुड की हस्तियां न ही सिर्फ फिल्मों में अभिनय तक सीमित हैं, बल्कि वो अब सिंगिंग के क्षेत्र में भी अपने कदम रख रही हैं। एक्टिंग के साथ-साथ सिंगिंग में भी अपना हुनर आजमाने में कई ऐसी हस्तियां है जो आज बहुत फेमस हैं। सिंगिंग एक ऐसा हुनर है जिसमे कई अभिनेत्री अपना लक आजमा चुकी हैं। आइये जानते हैं ऐसी कौन सी अभिनेत्रियां हैं जो सिंगिंग और एक्टिंग दोनों में फेमस हैं।

श्रद्धा कपूर

श्रद्धा कपूर सिर्फ एक्टिंग में ही नहीं, बल्कि सिंगिंग में भी माहिर हैं, उन्हें सिंगिंग का टैलेंट अपनी नानी के परिवार से मिला है। उन्हें अपनी फिल्म “एक विलेन” जो कुछ साल पहले रिलीज हुई थी, के लिए अनप्लग्ड परफॉर्म करने का मौका मिला था। उन्होंने फिल्म के लिए तेरी गलियां सांग अनप्लग्ड गाया था जो की बेहद लोकप्रिय हुआ।

परिणीति चोपड़ा

परिणीति चोपड़ा अपनी गायकी को लेकर बहुत सीरियस हैं, हालांकि उन्होंने फिल्मों में एक्टिंग में ही करियर बनाया है, लेकिन अपनी बहन प्रियंका की तरह ही उन्हें भी सिंगिंग का शौक रहा है। उनकी फिल्म मेरी प्यारी बिन्दू (Meri Pyaari Bindu) में जब उन्हें अनप्लग्ड गाने का मौका मिला तो उन्होंने “माना कि हम यार नहीं” गाया, जो कि काफी लोकप्रिय हुआ। इसके अलावा उन्होंने केसरी फिल्म का तेरी मिटटी सांग भी गाया, और दर्शकों को इस गाने का फीमेल वर्जन काफी पसंद आया।

और पढ़ें: सलमान खान लेते है एंडोर्समेंट के लिए लेंगे 7 करोड़ रुपये, जानिये बाकी एक्टर्स का हाल

आलिया भट्ट

आलिया भट्ट जितनी अच्छी अभिनेत्री हैं उतनी ही वो सिंगिंग में भी माहिर हैं। आलिया भट्ट ने भी फिल्म बद्रीनाथ की दुल्हनियां के लिए ‘मैं तेनु समझावा’ गाना अनप्लग्ड के रूप में गाया और गाना काफी लोकप्रिय हुआ।

नुपूर सनोन

नुपूर सनोन का सिंगल गीत ‘फिलहाल’ अक्षय कुमार के साथ फिल्माया गया था। दर्शकों ने उसे काफी पसंद किया है। नुपूर भी जल्द ही फिल्मों में अपने कदम रखने जा रही हैं। ऐसे में उन्होंने फिल्मों से पहले ही धूम मचा दी है। उन्होंने फिलहाल का ही अनप्लग्ड वर्जन गाया है, जो कि इन दिनों लोगों को खूब भा रहा है। इस गाने को बी प्राक ने गाया है, जिसे अब तक 600 मिलियन से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं। अब एक बार फिर से नुपूर को फीमेल वर्जन में गाने का मौका मिला है। फिलहाल का यह वर्जन भी दर्शकों के दिलों में जगह बना रहा है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

Holi 2020 – मिलावटी व केमिकल वाले रंग और मिठाइयों से करें बचाव

Holi 2020 – देहरादून में होली पर रंगों और मिठाईयों की जांच के नतीजे हैं बेहद चौंकाने वाले


कोरोनोवायरस से फीकी हुई होली –

कोरोनोवायरस को देखते हुए इस बार होली फीकी पड़ने का अनुमान है लेकिन फिर भी लोगों द्वारा बरती
जाने वाली सावधानियों के बावजूद, होली का त्योहार मनाने का उत्साह अभी भी बहुतों में है। हालांकि, इस
बार, खासतौर पर बाजार में बिकने वाले रंगों, मिठाइयों और अन्य खाद्य पदार्थों में मिलावट के स्तर को
देखते हुए पूरी जांच परख कर खरीददारी करें।

नमूनों में मिली मिलावट –

प्रदूषण और पर्यावरण संरक्षण वैज्ञानिकों (स्पेश) की सोसायटी ने धामावाला, पल्टन बाजार, हनुमान चौक,
मोती बाजार, कर्णपुर, डकरा, कंवाली रोड, पटेलनगर, माजरा, पंडितवाड़ी, प्रेमनगर, सहस्त्रधारा रोड, रायपुर,
देहरादून के जाखन, राजपुर और कृष्णानगर इलाके से विभिन्न होली रंगों के 100 नमूने एकत्र किए।
विशेष सचिव बृजमोहन शर्मा के अनुसार, प्रयोगशाला परीक्षणों से पता चलता है कि इन रंगों में लाल धातु
में पारा सल्फाइट, हरे रंग में तांबा सल्फेट, बैंगनी रंग में क्रोमियम आयोडाइड, चांदी के रंग में
एल्यूमीनियम क्रोमाइड और काले रंग में लीड ऑक्साइड में जैसी कई हानिकारक धातुएं मिली हैं।

मिलावटी रंगों से हो सकते हैं ये नुकसान –

ये रंग विषैले होते हैं और त्वचा के कैंसर, आंखों की एलर्जी, अस्थाई अंधापन, ब्रोन्कियल अस्थमा, एलर्जी,
किडनी की विफलता और सीखने की अक्षमता का कारण बन सकते हैं। शर्मा ने कहा कि बाजार में
बिकने वाले अधिकांश रंग धातु ऑक्साइड या औद्योगिक रंग हैं।

जब इन्हें धोया जाता है तो ये रंग मिट्टी और पानी की प्रणालियों को प्रदूषित कर सकते हैं। ये नदियों
और मिट्टी में प्रवेश करते हैं और प्रदूषण बढ़ाते हैं। स्पेक ने बाजार में उपलब्ध प्राकृतिक हर्बल रंगों की
भी जांच की और पता लगाया कि इनमें से 52 प्रतिशत रंगों में मिलावट है।

और पढ़ें: एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के घरेलू नुस्खे

मिठाईयों में भी मिली खूब मिलावट –

जब मिठाइयों की बात आती है तो बाजार में उपलब्ध वस्तुओं में भी मिलावट की जाती है। स्पेक ने दूध,
मावा, पनीर, मिल्क केक, बर्फी, गुजिया, बताशा, गुलाब जामुन, सरसों का तेल और रिफाइंड तेल सहित खाद्य
सामग्री के 240 नमूने एकत्र किए। मावा के 40 नमूनों में से 38 नमूनों में हानिकारक पदार्थों की मिलावट
पाई गई। 38 मिलावटी नमूनों में से 17 पूरी तरह से सिंथेटिक थे जिनमें यूरिया, डिटर्जेंट, अरारोट पाउडर
और रिफाइंड तेल जैसे रसायन थे। रिफाइंड आटा (मैदा) जो कि गुझिया बनाने के लिए उपयोग किया
जाता है, को भी मिलावटी पाया गया।

शर्मा ने कहा कि होली पर एक सुखद अनुभव के लिए, घर पर पकाए गए खाद्य पदार्थों और वास्तव में
पारंपरिक रूप से आसानी से उपलब्ध वस्तुओं से बने जैविक रंगों का उपयोग बाजार में बिकने वाले
उत्पादों के बजाय किया जाना चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

How to get relief from acidity? एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के घरेलू नुस्खे

How to get relief from acidity? ये आसान घरेलू नुस्ख़े हैं एसिडिटी और गैस के इलाज


एसिडिटी की समस्या 

एसिडिटी (acidity) की समस्या यानि गैस (gas) की समस्या एक ऐसी समस्या बनती जा रही है जो आमतौर पर हर दूसरे इंसान को हो ही जाती है। वैसे तो इस समस्या के कई कारण होते है, लेकिन इसके मुख्य कारण ज्यादा समय तक खाली पेट रहना, जंक फ़ूड खाना, प्रोसेस्ड फ़ूड आदि का सेवन है। इसका एक अन्य कारण चाय या कॉफ़ी का ज्यादा सेवन करना भी होता है। एसिडिटी की समस्या एक ऐसी समस्या होती है जो दिखने में छोटी लगती है लेकिन इसके होने से आपको अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है। आज हम आपको एसिडिटी से राहत पाने के कुछ घरेलु नुस्खें बता रहे हैं जिनको अपनाकर आप इस समस्या से राहत पा सकते हैं।

बेकिंग सोडा और नींबू रस  –

एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के लिए बेकिंग सोडा और निम्बू रस बहुत कारगार साबित होता है। एसिडिटी होने पर बेकिंग सोडा और नींबू रस को एक गिलास हलके गर्म पानी में घोलकर तुरंत पी जाइये। ऐसा करने से तुरंत राहत मिल जाएगी।

हींग और अजवायन की फंकी 

एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के लिए हींग और अजवायन की फंकी  रामबाण का काम करती है। एसिडिटी होने पर हींग और अजवायन को मिलाकर पानी के साथ खा लें। इसी के साथ आप हींग का पानी भी पी सकते हैं।

काली मिर्च

काली मिर्च गैस की समस्या से राहत देने के साथ-साथ हाजमा भी सही रखती है। आप काली मिर्च को दूध के साथ मिलाकर पी सकते हैं। इसी के साथ आप निम्बू और काली मिर्च को पानी में  मिलाकर पीयेंगे तो तुरंत आराम आएगा।

और पढ़ें: हेल्थी ब्रेकफास्ट के लिए खाने में क्या चुनें

देसी घी और अदरक 

एसिडिटी होने पर अदरक के टुकड़े को हल्का गैस पर गर्म करके पके हुये देसी घी में डालकर खाने से गैस की दिक्कत में आराम मिलता है।

भुने जीरे वाली छाछ 

अगर आप एसिडिटी की समस्या से परेशान है तो आप एक चम्मच भुना हुआ जीरा छाछ में डालकर पी जाइये, इससे आपको तुरंत आराम मिलेगा। ऐसा करने से पाचन तंत्र भी ठीक रहता है।

मेथीदाना और गुड़ का पानी

एसिडिटी से राहत पाने के लिए मेथीदाना और गुड़ को पानी में डालकर उबाल लें और इस पानी को छानकर पी लें। ये आपको गैस की समस्या से तुरंत आराम देता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

अगर आप डाइट में खाते हैं ये चीजें तो कोरोना वायरस रहेगा दूर

कैसे  सही डाइट रख सकती है आपको coronavirus वायरस दूर ?


क्या है कोरोना वायरस ?

कोरोना वायरस का एक बड़ा परिवार है जो आमतौर पर श्वसन संबंधी बीमारी का कारण बनता है। उनमें ऐसे वायरस शामिल हैं जो सामान्य सर्दी और मौसमी फ्लू का कारण होते हैं, साथ ही इसमें गंभीर श्वसन सिंड्रोम (SARS) और मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (MERS) जैसी बीमारियां भी होती हैं। COVID-19 एक नया तनाव है जो पहले मनुष्यों में पहचाना नहीं गया था और पहली बार वुहान, हुबेई प्रांत, चीन में पहचाना गया था।

कोरोनावायरस के लक्षण –

कोरोनावायरस के शुरूआती लक्षणों में श्वसन संबंधी लक्षण जैसे खांसी, सांस लेने में तकलीफ और छींके आना और बुखार शामिल हैं। कुछ गंभीर मामलों में कोरोना वायरस से निमोनिया, श्वसन सिंड्रोम, किडनी फेल्योर और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है। लेकिन क्या आप जानते हैं आप कोरोना वायरस से अच्छी और सेहतमंद डायट देकर दूर रह सकते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं आपको कौन-कौन से खाद्य पदार्थों को अपनी डायट में शामिल करना चाहिए जो आपको कोरोनावायरस से दूर रखेंगे।

कोरोना वायरस से बचने के लिए डायट –

प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने वाले फूड खाएं – कोराना वायरस से बचने के लिए सबसे अधिक आवश्यक है आप ऐसे आहार का सेवन करें जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाएं। मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली किसी भी वायरस से लड़ने में मदद कर सकती है। विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ- कोराना वायरस से बचने का सबसे आसान तरीका है आप अपनी डायट में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें। विटामिन सी बीमारियों से लड़ने और वायरस से सुरक्षा प्रदान करता है। विटामिन सी में आप संतरा, आंवला, पपीता, शिमला मिर्च और अमरूद जैसी चीजों को शामिल कर सकते हैं।

Read more: ब्लड टेस्ट और हार्ट अटैक के बीच क्या है नाता?

नारियल तेल- लॉरिक एसिड और कैप्रीलिक एसिड से भरपूर नारियल तेल से बना खाना खाने से आप अपना इम्यून सिस्टम मजबूत कर सकते हैं जो कि आपको वायरस से लड़ने में मदद करेगा।  अदरक – आप रोजमर्रा में चाय से लेकर खाने तक में अदरक का इस्तेमाल करते होंगे। अदरक में एंटीवायरल तत्व मौजूद होते हैं जो किसी भी वायरस से शरीर की रक्षा करते हैं। ये इम्यून सिस्टम भी स्ट्रांग करती है। अदरक को शहद और सौंफ के साथ खाने से अधिक लाभ होगा।  लहसुन – भारतीय खाने का टेस्ट बढ़ाने के लिए लहसून का उपयोग किया जाता है। लहसुन में एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने का काम करते हैं।

तुलसी – आयुर्वेद में भी तुलसी को बीमारियों से लड़ने वाली औषधी कहा गया है। ये इम्यून सिस्टम स्ट्रांग करती है। कोरोना वायरस से बचने के लिए रोजाना सुबह 3 से 4 पत्ते तुलसी के बचाएं। आप तुलसी को चाय और खाने में भी इस्तेमाल कर सकते है।

कुछ अन्य रोकथाम के उपाय –

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए आप नियमित रूप से हाथ धोएं, खांसने और छींकने पर मुंह और नाक को ढंकें, मांस और अंडे जैसी चीजों को खाना नज़रअंदाज करें। सांस की बीमारी के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

समीरा रेड्डी ने बेटे के पैदा होने के बाद पोस्ट-पार्टम डिप्रेशन के बारे में कहीं ये बातें

आखिर क्यों postpartum depression के बारे कही समीरा रेड्डी ने बड़ी बात


दूसरी बार बनी हैं समीरा रेड्डी माँ

समीरा रेड्डी ने हाल ही में एक बच्ची को जन्म दिया है। अभिनेत्री ने दूसरी बार मातृत्व ग्रहण किया। और हाल ही में एक इवेंट में अभिनेत्री ने पोस्ट-पार्टम डिप्रेशन के बारे में बात की।

पहले बच्चे के जन्म के बाद हो गया था डिप्रेशन –

अभिनेत्री ने अपने पहले बच्चे के जन्म के बाद खुलासा किया, वह डिप्रेशन के कारण अपने नवजात शिशु के साथ पूरी तरह से डिस्कनेक्ट हो गईं थीं। उन्होंने अपने बेटे हंस को अपने पति को दे दिया था और कहा था कि वह उसके बारे में अच्छा महसूस नहीं करती है। यह भी कहा कि यह सबसे बुरा काम था और अब उसे उम्मीद है कि दोबारा ऐसा नहीं होगा।

क्या कहा समीरा रेड्डी ने-

अपने गर्भावस्था के चरण के बारे में बात करते हुए, उन्होंीने कहा कि मेरा वजन 72 किलोग्राम से 105 किलोग्राम तक हो गया और जब मैंने अपने बेटे को जन्म दिया, तो मैं बहुत ज्यादा उदास थी। सी-सेक्शन से मेरे बेटे का जन्म हुआ था। मुझे नहीं पता था कि क्या हो रहा था… मैं बहुत खुश थी। लेकिन जब मैंने बेटे को जन्म दिया तो मेरा मोहभंग हो गया। मेरे पति मुझसे कह रहे थे कि मैं सुंदर हूं। मैंने कहा कि धन्यवाद लेकिन जाहिर है, आप झूठ बोल रहे हैं। मुझे इस बात से मोहभंग हो गया था कि मुझे काट दिया गया है। इस बारे में मुझसे किसी ने बात नहीं की। उन्होंने बताया कि किसी ने मुझसे नहीं कहा कि समीरा ऐसा भी हो सकता है। आपके हार्मोन टॉस के लिए जा सकते हैं। आपको पोस्ट-पार्टम डिप्रेशन जैसा कुछ हो सकता है।

Read more: यौन शोषण के बुरे आईने को दिखाने वाली बॉलीवुड की 5 फ़िल्में

उन्होंने आगे कहा कि स्थिति तब और खराब हो गई जब महिलाओं ने उसके वजन बढ़ने पर बातें बनाना शुरू कर दिया था।आपको बता दें, समीरा ने साल 2014 में बिजनेसमैन अक्षी वर्दे से शादी की थी। इस दंपति ने एक बेटे को जन्म, दिया था जो साल 2015 में हुआ था।काम की बात करें तो अभिनेत्री ने डरना मना है, नो एंट्री, रेस , दे दना दन जैसी कई फिल्मों से दर्शकों का मनोरंजन किया है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com