थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की रिपोर्ट के अनुसार ‘एंटी वुमन’ लिस्ट में नंबर एक पर है भारत: अब ये कोई नई बात नही 

0
197
anti women country list

क्या बताती है थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की रिपोर्ट?


 

आपको ये जान कर हैरानी होगी कि भारत ‘एंटी वुमन’ देशों की लिस्ट में पहले नंबर पर है। 2018 में आई थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की रिपोर्ट बताती है कि भारत पूरी दुनिया में महिलाओं के लिए असुरक्षित देशों की लिस्ट में सबसे ऊपर या फिर ये कहे पहले नंबर पर भारत का नाम आता है इस लिस्ट में ज्यादातर मुस्लिम देश है अगर हम टॉप 10 ‘एंटी वुमन’ देशों की बात करे तो इसमें दसवें नंबर पर अमेरिका आता है। जबकि पहले नंबर पर भारत का नाम आता है इसका मतलब यह है कि पूरी दुनिया में भारत की महिलाओं की स्थिति सबसे ज्यादा चिंताजनक है। अगर आप सोशल मीडिया की रिपोर्ट पर एक नजर डालेंगे तो आपको पता चलेगा कि भारत में हर साल दो लाख से भी ज्यादा लड़कियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है। भारत का ‘एंटी वुमन’ लिस्ट में सबसे ऊपर रहने का सबसे बड़ा कारण ये है।

1970 से ले कर 2020 तक लापता महिलाओं की संख्या

इसी साल जून में आई यूएन पॉपुलेशन रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया में 1970 से ले कर 2020 तक में पूरी दुनिया में 14.26 करोड़ महिलाएं लापता हो चुकी है। इस रिपोर्ट ने अनुसार केवल भारत में 1970 से ले कर 2020 तक में 4.58 करोड़ महिलाएं लापता हुई है महिलाओं के लापता होने में भारत दूसरे नंबर पर है जबकि चीन पहले नंबर पर है। इतना ही नहीं ये रिपोर्ट एक और चौंकाने वाला आंकड़ा सामने रखती है वो ये कि पूरी दुनिया में 12 लाख लड़किया पैदा होने के साथ ही लापता हो जाती है। जिसमे से 90 से 95 प्रतिशत केवल भारत और चीन में होती है।

और पढ़ें: जाने इंडिया आर्मी में शामिल होने वाली पहली महिला शांति तिग्गा के बारे में

2015 और 2016 में आई नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट क्या बताती है? 

2015 और 2016 में आई नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार भारत में करीब 31 प्रतिशत शादीशुदा महिलाएं जीवन में एक बार जरूर घरेलू हिंसा का शिकार होती है। इतना ही नहीं अगर आप एक निजी एजेंसी के सर्वे की रिपोर्ट देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि भारत में 80 प्रतिशत कामकाजी महिलाओं पर भी उनके पति अत्याचार करते है। भारत में हजारों साल पहले चलने वाली एक कुप्रथा ‘दहेज प्रथा’ आज भी हमारे यहाँ चलती है जिसके चलते हर साल आज भी हजारों महिलाओं को अपनी जान गवानी पड़ती है। इतना ही नहीं अब तो सोशल मीडिया पर भी महिलाओं को लेकर कई सारे प्रॉब्लमेटिक और ए्ब्यूसिव ट्वीट और पोस्ट होते रहते है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com