सीआईएसएफ जवानो के साथ सलामी देते हुए दिखे पीएम मोदी

0
226
cisf

 50 साल पहले हुए थी सीआईएसएफ की स्थापना


जिनकी वजह से आज हम अपने  घरों  में महफ़ूज़ है. जो सीमा पर खड़े होकर अपनी जान  की परवाह ना  कर हमारे देश की रक्षा करते है आज उन सभी जवानों पर हमें नाज़ है.आज है सीआईएसएफ का 50वा  स्थापना दिवस और इस  ख़ास दिन पर आज पीएम मोदी जवानो के बीच  आयोजित समारोह का हिस्सा बनने पहुँचे और आखिरी में सलामी दी.

cisf

साथ ही आज सीआईएसएफ  के 50 वे स्थापना दिवस पर पीएम मोदी ने गाजियाबाद के इंदिरापुरम में सीआईएसएफ के 5वें बटालियन कैम्प में दो अधिकारियों सुधीर कुमार व जितेंद्र सिंह नेगी, एक इंस्पेक्टर एस. मुत्थुस्वामी और एक जवान आर. सूर्यराजा को सम्मानित भी किया. आपको बता दे की  केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल भारत के केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में एक सबसे बड़ा बल है. जिसकी स्थापना  1939 में की गई थी . जो देश को अंदर से मजबूती देने के लिए हमेशा तैयार रहती है.

साथ ही सीआईएसएफ के 50 वे स्थापना दिवस पर पीएम मोदी ने सीआईएसएफ जवानो को संबोधित करते हुए यह कहा की वो जवानो के लिए भी एक म्यूजियम  होना चाहिए . साथ ही एयरपोर्ट और मेट्रो स्टेशन पर एक डिजिटल म्यूजियमबनाया  जाए , जिसमें यह दिखाया जाए कि सीआईएसफ कैसे आगे बढ़ा और कैसे सुरक्षा बनाए रखता है.

यहाँ भी पढ़े : जाने देश के इन सुरक्षा बलो के बारे में जिनकी वजह से आज हर देशवासी निडर है !

सीआईएसएफ  जिस तरह से 24  घंटे देश की रक्षा के लिए बॉर्डर पर तैनात  रहते है और हम  सभी को आतंकी जैसे हमलो से रक्षा करते है वाकई  गर्व होता  हैकि हमारे पास सीआईएसएफ जैसी  सेना है .जो 50  साल से देश की सेवा में लगा है साथ ही  एक संगठन को सुरक्षा देना, जहां 30 लाख तक लोग आते हों, जहां हर चेहरा अलग हो, सबका व्यवहार अलग होये काम किसी वीआईपी को सुरक्षा देने से कई गुना बड़ा काम है जो सीआईएसएफ करता है .

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in