सामाजिक

पीरियड्स और उससे जुड़ी कुछ जानकारियां

लड़कियों को मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है, पीरियड्स के दौरान ये चीजें ना करें


पीरियड्स का हर महीने आना एक बायोलॉजिकल प्रोसेस है लेकिन पीरियड्स आने की वजह से पेट दर्द, कमर दर्द, पैरों में दर्द, चिड़चिड़ापन और काफी मूड स्विंग्स जैसी शिकायतें भी होती हैं हम प्रायः अपने पीरियड्स के दर्द को कम करने के लिए कई तरीके अपनाते हैं लेकिन कुछ ऐसी गलतियाँ भी हम करते हैं जिनकी वजह से प्रोब्लेम्स और बढ़ जाती है।

वैजिनल पिक्स विथ फ्लावर
वैजिनल पिक्स विथ फ्लावर

आज हम उन्ही कुछ चीजों के बारे में जानेंगे जिनसे बचना ही हमारे प्रोब्लेम्स को कम कर सकती है:

पैड्स बदलने में देर करना

कई महिलाएं तो पीरियड्स में कपड़े का भी प्रयोग करती है जो की भूल कर भी नही करना चाहिए। इससे इन्फेक्शन और चिड़चिड़ापन होने का खतरा और भी बढ़ जाता है। कई बार ऐसा होता है कि हम अपने काम की वजह से पैड्स बदलने में देर करते है और इससे पैड्स में बैक्टीरिया इन्फेक्शन बढ़ने की आशंका होती है जो कि हमारे हेल्थ के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं है। पैड्स ज्यादा देर तक उपयोग में लाने से टॉक्सिक सिंड्रोम हो सकता है जिसे टीएसएस भी कहते है। इससे खतरनाक किस्म का बैक्टीरिया वैजाइन वॉल के अन्दर घर कर सकता है और पीरियड्स खत्म होने के बाद भी वेजाइना से चिपका ही रहता है। इसलिए पैड्स को देर तक पहनने से बचें.

वाटर बैग पिक्स
वाटर बैग पिक्स

शारीरिक संबंध बनाने से बचें

कई महिलाएं पीरियड्स के दौरान भी शारीरिक संबंध बनाती है। अगर ब्लीडिंग ज्यादा हो रही हो तो उन्हें ऐसा नही करना चाहिए। अगर फिर भी आप संबंध बना रहे हो तो आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपका पार्टनर कंडोम का उपयोग करे क्योंकि ऐसा न करने से वैजिनल पार्ट में बैक्टीरिया के आने का खतरा बढ़ जाता है

कपल पिक्स
कपल पिक्स

अपने खाने-पीने का ख्याल रखें

महीने के इन मुश्किल दिनों में महिलाओ को कुछ भी खाने का मन नही करता लेकिन उन्हें अपना खास ध्यान रखना चाहिए। अगर आपने भोजन को स्किप करना शुरू किया तो इससे भूख बढ़ेगी और दर्द का एहसास भी ज्यादा होगा और आपके शरीर पर भी इसका गलत प्रभाव पड़ेगा। इन दिनों में आप अपना मूड ठीक करने के लिए आइसक्रीम या चॉकलेट खा सकते हैं।

देर रात जागने से बचें

दिन भर की दौड़-धूप के बाद हमारे शरीर को एक अच्छी नींद और आराम की जरुरत होती है। अगर रात भर जागने के बाद बॉडी को रेस्ट नही मिली तो इससे स्ट्रेस और कई तरह के कोम्प्लिकेसन बढ़ सकती है। जिससे मूड से लेकर बदन दर्द और कई चीजें शुरू हो जाती है।

पीरियड्स के दौरान शरीर में अगर किसी तरह की हलचल शुरू हो और शरीर में होने वाले दर्द और बदलावों को कभी भी नज़र अंदाज़ ना करें और अगर किसी तरह की समस्या हो तो एक बार अपने निजी डॉक्टर को जरुर दिखाएं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।